बंट जाना प्रसाद की तरह

अगर तुम्हे बंटना ही है
तो बंट जाना,
पर विभाजित मत होना
हिस्सों की तरह।

बिखर जाना
श्रध्दा-सुमनों सा
फिर सबको मिल जाना
प्रसाद की तरह।

जैसे फूल टूटता है
बिखर जाता है हवाओं मेें,
फिर मिलता है सबको
खुश्बू की तरह।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s