“Better a diamond with a flaw than pebble “

‘काफिर’ नाम के पत्थर की शिनाख्त में
कोई कमी रह गई शायद
हीरा है कि शीशा है अबतक वो समझा ही नहीं।

ए जिन्दगी तुझसे मिल लूं गर इज़ाजत हो तो,
आईना पूछने आया है, तुझे संवरना तो नहीं।

ए मौत तुझे जिन्दगी से दोस्ती का न्यौता है,
नाराज़गी भी कोई नहीं,बस मेलजोल रखा ही नही।

परछांइयॉ जिस्म ढूंढ रही है बहुत बेरोज़गारी है,
इस दौेरे चकाचौंध में रौशनी को धूप मिली ही नही।

अब तो मन भी ऊबने लगा है इस ज़िन्दगी से,
और दिल है कि उसे धड़कने से फुरसत ही नहीं।

देख-भाल के ईश्क शम्मा परवाने का कभी इम्तिहान नहीं लेता,
वो एक ही तरीके से मरता है, नकल की कोई गुजांईश ही नही।

मयखाने में सब कुछ भरा पुरा है साकी है शराब है रिन्द हैें
खाक में जान फूंकने वालों का जलवा तुमने देखा ही नहीं।

मुझे जल्दी बुला लाए एक कच्ची गज़ल के साथ,
पत्थर मत मारना दोस्तों, मैं अभी पका ही नहीं।

मैंने कई बार सोचा कि मरके के देखते हैं,
मरने के बाद भी मरना, उसपर कुछ और सूझा ही नहीं।

काफिर-जो अल्लाह को न माने।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s