एक फलसफा

​             ​एक-फलसफा
बड़े बड़े मकान, कमराें की तरह बंट गये अपने,
जो लोग तंग रहते हैं अक्सर संग रहते हैं।

खुशी तो जाहिर हुई, मगर कुछ एसे करते हैं,
तालियों में भी जेबों मे रहें, हाथ फैलने से डरते हैं।

मुफलिसी के सदके, कुछ खोने का डर नहीं,
खर्ची भी कुछ नहीं, उनकी गुंजाइश से डरते हैं।

कटाेरे को देखकर, भिखारी की दुआ याद आई,
मतलब पड़े तो सभी रास्ते मन्दिर का रूख करते हैं ।

Advertisements

4 thoughts on “एक फलसफा

  1. you have very versatile blog nice about page, kar patvar pe itane sundar phul lage hote hain ki unhe ukhar kar phekne ka maan nehi hota.
    it will be great learning from your experience. 🙂 looking forward for most exciting post.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s