Image

मै कई घूंट पी गया कड़वे शब्दों के,अब गला रुंध रहा है।पलकों के रस्ते टपकने की कोशिश में हैकुछ “निशब्द” सा घुटन-भरा।

मै कई घूंट पी गया कड़वे शब्दों के,

अब गला रुंध रहा है।

पलकों के रस्ते 

टपकने की कोशिश में है

कुछ “निशब्द” सा घुटन-भरा।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s