आम फिर बौराएंगे।                                           लाख पहरे बिठा लो।।     हम तो कोयल हैं                                               हमसे कुकवाए लो।।                 

मुझको ठोकर लगी मैं छलक गया हूँ ऐसा भी नही,
मैं अभिज्ञान*से सराबोर हूँ, जो भीतर से फूला न समाये  संभला भी रहे.

तू मुझे एसी ही मिलना जैसे रस्ते में कोई मुद्दत बाद मिले,
मिलने के बाद बर्क़रारी भी रहे बेकरारी भी रहे.

अभिज्ञान*कोई चिन्ह जिस से कोई पुरानी बात याद आये source of knowledge 

Advertisements

4 thoughts on “आम फिर बौराएंगे।                                           लाख पहरे बिठा लो।।     हम तो कोयल हैं                                               हमसे कुकवाए लो।।                 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s