आफताब कभी परछांई महसूस नहीं करता,                                          चांद समेटता है और चांदनी बिखेर देता है।

या तो छाता होता, पर पर्दा न होता,

और हमको मंज़ूर नहीं था दीवार होना।

परछाई में हाशिए के भीतर एक अन्धेरा रहता है,

वो हमीं हैं जो चाहते हैं छांव से ठंडक होना।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s