Jigsaw: piece a game of broken heart

मैं सपना तोड़कर देखूं 
तुम्हारा होगा पर  मेरा है,

तुम्हे इख़्तियार पूरा                                                    पर बस पूरा करने का है.                                          एक स्वेटर की तरह बुना है                                         बस मुझे बॉर्डर बुनना नही आता है.

मेरी भी एक सीमा है 
कितना बुनु तुमको.
कुछ घर छूट ही जाते हैं
बड़ी मुश्किल से उन्हे
उठाना पड़ता है।
वो दिल के डिजाईन में,

एक फंदा छूटने से 
एक छेद रह गया है, 

ये स्वेटर है शरीर नही है                                               जो ये दिल किसी गुबारे में                                          हवा की तकनीक से,.                                             ज़ख़्म भर देगा,.                                                      इसे वक्त के मरहम से.                                          भरवाना पड़ता है।

दिल मसोस कर रखा है 
तुम बस चले आना 
टकोर भर कर देना.

खिलौना जो मुझसे टूट गया था 
तुम ये न समझाना 
मैंने तोड़ कर रखा है.
टूकड़े हैं सब अवशेषों के
समेटकर रखना पड़ता है।

सुर बिखेर  गया कोई 
दिल तोड़ गया कोई 
ये सुर छेड़ दिए किसने 
समय को ग़ज़ल करना पड़ता है।

खेल ही खेल में दिल 
उन टूटे दिल के टुकड़ों को 
jigsaw -puzzle की भांति
फर्श पर बिखेरकर
बस महज़ एक खेल की तरह
रिक्त टुकड़ों को उनमें भरना पड़ता है।

Advertisements

One thought on “Jigsaw: piece a game of broken heart

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s