मत पूछ मुझसे मेरे खुलुस का सिला,लोग बर्दाश्त कर रहे हैं मुझे अजीब जानकर।

मत पूछ मुझसे मेरे खुलुस* का सिला,

लोग बर्दाश्त कर रहे हैं मुझे अजीब जानकर।

मैं भी उसी को चाहता हूं, जिसे तू चाहता है,

नेमत है मुझे काफिर करार दिया नाम जानकर।

*खुलूस-निर्मलता quality of being open and honest

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s