FREEDOM on independence

FREEDOM OF EXPRESSION

वो भी दर्द को समझने बटानेवाली मिली,
इतना न हुआ कि खुशी इज़ाद कर लें।
एक तुम मुझे खून दो मैं तुम्हे आज़ादी दूंगा,दूसरे मजबूरी का नाम महात्मा गांधी कर लें।
काफी हाउस में बैठकर कुछ लोगों मे बहस हुई,
जन्तर मन्तर की तरफ बढे़ं आज़ादी का जश्न कर लें।

Advertisements

Air pollution कितनी मिलावटी है ज़िन्दगी अन्धरों में चिराग जलाए हैं।। आफताब कम पड़ गया डूब गया आखिर उजालों को लिए।

उसको मर जाना चाहिए फालतू साँसें ले रहा है
ये तब की बात है जब हवा क्यूबिक* में मिलेगी।

*क्यूबिक मीटर. आमतौर पर हवा के एक मात्रा में एक रसायन की सांद्रता को व्यक्त करने में इस्तेमाल किया मात्रा का एक मीट्रिक इकाई,. एक घन …

“जागरूकता” लिखा समझा नहीं, अब “WARNING”लिखवानी है। दिए में आग है इस डर से उसे रौशन न करे कोई। बहुत भूखा है मेरे गांव का किसान कहो तो खेती न करे कोई।।

उसको बीमारी यही है कि वो समझता है वो ठीक है,
ऐसे को उसके हाल पर छोड़ना इलाज नहीं है।

एक गांव वाला पढ़-लिख कर जब हस्पताल पहुंचा,
कहने लगा सब मर गये अब उस गांव में कोई ओझा नहीं है।

कब बरसेगा अम्बर से पानी कहना मुश्किल है,
ग्लेशियर बता रहे थे उसका रिश्ता प्रलय से है अब पानी से जमता नहीं है।

तुम चालाक हो तो मैं भी धूर्त कम नहीं, कौन कहता है कि अन्धो में काणा राजा नहीं चलता।

मुझमें क्या क्या ऐब हैं मैं उन्हें कैश कर रहा हूँ ,
ये जो बाज़ार है सिर्फ अच्छाईओं से नहीं चलता

वो अकेला नहीं हैं, नीति के तहत चल रहा हैं
सारे तर्क हैं तुम्हारे पास, देश बिना चक्रधार के नहीं चलता।

तुम चालाक हो तो मैं भी धूर्त कम नहीं,
कौन कहता है कि अन्धो में काणा राजा नहीं चलता।

दुश्मन का दुश्मन दोस्त है गर यही धर्म है,
तुम्हारा दिया तुम्ही को लौ, कैसे नहीं चलता।

Owner is Title

property owner

पछताने से अच्छा है अभी ये वीराना कौडिय़ों के दाम है अपनी ज़द में कर लो,
अब सोचते हैं काश वो बस्ती के बीचोंबीच जो कब्रिस्तान हैं गये वक्तों में खरीद लिया होता।

++++++++++++++
property Dealer
मेरे घर से श्मशान की दूरी फ्लाईओवर से कुछ कम हुई है,
इस investment में appreciation तो है ।

हमारी कहानी मेरी ज़ुबानी।

Long ago I have written this story of mine. And after a long time my wife once again admitted to Hospital.

So I repost this story with WordPress
मेरी आप बीती जो
जी है हमने, बिताई नहीं है।
बड़े सलीके से पैंठ *
पसारी है हमने पसरी नहीं है ।
“सुनो जी, कहीं घूमने चलते हैं”
“अब क्या हुआ इस बार कुछ जल्दी याद कर लिया, दर्द फिर शुरू हो गया क्या।”
भगवान अल्सर दे भी तो नापकर, छोटा या इतना कि जो अफोर्ड किया जा सके।
हमारे साथ तो कुछ ऐसा ही है। शादी के पच्चीस साल हो गये। बस हाथ नहीं फैलाए किसी के आगे।
ऐसा भी नहीं कुछ लोगों ने, रिश्तेदारों ने हेल्प नहीं की। उन सभी का शुक्रिया।और शुक्रिया उस परवरदिगार का। कि
बीमारी में इन्तजा़म की कोई कमी नहीं रक्खी,
ए खुदा तूने हमें कैसे जूझने के काबिल बना दिया।
वर्ना कौन परवाह करता है किसी कि आजकल।
ये अल्सर भी न ठीक समय पर बढ़ता था। इधर कुछ छुट्टी और पैसा इकट्ठा हुआ। उधर उसका आउटिंग का मन हुआ। उसका हिल्ल स्टेशन पर मन होता था तो हमें बैड टाप फ्लोर पर ही मिलता था। सामने अरावली हिल्स सी फील आती थी हरियाली वैसी ही बिल्कुल लश-ग्रीन। पेड़ चाहें किकर के ही थे पर आखों को चुभते नहीं थे। सभी किकर हरे रंग के पर अदभुद था हजारों पेड़ पर हरेक का अपना एक अलग हरा रंग था। शुरु से हम शंकर रोड के इर्द गिर्द ही रहे फिर वो चाहें रिहाइश हो या उसपर बसा वो सर गंगाराम हस्पताल हमने छोड़ा नहीं।
अब रिटायर हो गये हैं आमदनी के नामपर पैन्शन है। हम अब जमुनापार बस गये हैं।
क्या दिन थे।
कहावत है अच्छे दिन नहीं रहे तो बुरे भी नहीं रहते।
पर उस परवरदिगार का लाख-२ शुक्रिया ये समझाने के लिए कि बड़ी बिमारी से बचना है तो अपनी आमदनी कम रखियो। ये बिमारी उस बिगड़े बच्चे की तरह है कि खुल्ला मिले तो बिगड़ जाती है।
भगवान कितनी बारिकी से सबका ख्याल रखता है उसकी सबसे बड़ी मिसाल हम दोनो है। हमारे केस में खुदा ने कोई कंजूसी नहीं बरती कोई कोताही नहीं बरती। इधर हम कभी उसे गलती से भूले उधर उसने ही याद दिलवाया हमें।
अब हम उसे सुख में ही याद करते हैं।

इस बार चूक नहीं हुई थी कहीं और घूमने चले गये थे।

शायद जो पैसा घूमने में खर्च किया प्रावधान (provision)के विरूद्ध कर दिया।

E & O E
Thanks God
*पैंठ -. एक खोई हुई हुंडी के स्थान पर लिखी हुई दूसरी हुंडी