अन्धेरा छूकर देखना रौशनी रास्ता देगी।                                       कभी आशा न छोड़ना बकाया आस्था देगी।

प्यार एक तरफ़ा भी होता है 
तुझे मालूम है क्या ?
किसी को साथ लेकर मरना 
प्यार में क्या ज़रूरी होता है।

मैं फिर पूछता हूँ 
ये अधूरा  होता है क्या ?
किसी पे मर जाना भी 
क्या कहते हैं पूरा होता है।

मेरे हिस्से का बिछड़ना
बेवफा के मुक्कदर का रकीब होता है क्या।
जिस कहानी का एक सिरा मार्मिक है 
तो दूसरा छोर रोमान्टिक होता है क्या? 

दो जमा दो हिसाब से तो पांच नही होता,
और प्यार में ये क्यों ऐसा हरबार बराबर होता है।

Jigsaw: piece a game of broken heart

मैं सपना तोड़कर देखूं 
तुम्हारा होगा पर  मेरा है,

तुम्हे इख़्तियार पूरा                                                    पर बस पूरा करने का है.                                          एक स्वेटर की तरह बुना है                                         बस मुझे बॉर्डर बुनना नही आता है.

मेरी भी एक सीमा है 
कितना बुनु तुमको.
कुछ घर छूट ही जाते हैं
बड़ी मुश्किल से उन्हे
उठाना पड़ता है।
वो दिल के डिजाईन में,

एक फंदा छूटने से 
एक छेद रह गया है, 

ये स्वेटर है शरीर नही है                                               जो ये दिल किसी गुबारे में                                          हवा की तकनीक से,.                                             ज़ख़्म भर देगा,.                                                      इसे वक्त के मरहम से.                                          भरवाना पड़ता है।

दिल मसोस कर रखा है 
तुम बस चले आना 
टकोर भर कर देना.

खिलौना जो मुझसे टूट गया था 
तुम ये न समझाना 
मैंने तोड़ कर रखा है.
टूकड़े हैं सब अवशेषों के
समेटकर रखना पड़ता है।

सुर बिखेर  गया कोई 
दिल तोड़ गया कोई 
ये सुर छेड़ दिए किसने 
समय को ग़ज़ल करना पड़ता है।

खेल ही खेल में दिल 
उन टूटे दिल के टुकड़ों को 
jigsaw -puzzle की भांति
फर्श पर बिखेरकर
बस महज़ एक खेल की तरह
रिक्त टुकड़ों को उनमें भरना पड़ता है।

कभी आईना बदलना फिर देखना, बन्द करो ये घर का अखबार छापना।

आईना देख कर मुझे कुछ हैरत सी हुई,
मेरा चेहरा मेरे हाथों के पोरों से निकालने लगा मुझे।

एक इच्छा थी के डूब के मर जाऊं, ये मीडिया की खबर थी,
किसी ने हाथ पकड़कर शरम के पर्दे से खींचकर बाहर निकाला मुझे।

ये हरकत है कई आदमियों की, गुनहगार एक ही है।।                        वो जिसने सिर्फ जलना सीखा है, वक्त को भुनाया ही नहीं।।

जिन परेशानियों को कोई ठौर नहीं मिलता 
वो आवारा हों ये ज़रूरी तो नहीं।

इंतज़ार में है ? कि खाली हो राख ऐश ट्रे की,
वो भी इंतज़ार का हिसाब दे ज़रूरी तो नहीं।

Non resident Indian

सोने के पिंजरे ने सोने की कीमत गिरा दी,
उड़ने की इजाज़त न थी, बस चलने को जगह दी।

एक बुज़ु़र्ग  अपने घर पर प्यासा ही मर गया,
विदेशी बेटे ने मूहं मे गंगाजल डालकर चिता को आग दी।

मुद्दतों पहले वो इसी घरको खण्डहर कर गया,
बस फूल चुनते-२, गंगा में एक और कहानी बहा दी।

कुछ लोग आए पारंगत थे तसल्ली को शब्द दे गये
जैसे किसी दर्द भरे शेर को सामयिन* ने दाद दी।

*दर्शक

वो आप्रेशन से मेरे घुटने ठीक कराकर प्रदेस चला गया

जो रेंग-रेंगकर सुलग रहा था, ज़माने ने पुल बांधकर उसे आशीषों से हवा दी।

The waste is talent if absorved by dangerous outfit

To plant a plant 
an unwanted Plant 
That
one is better 
For your eyes only
Or 
Feed 
Or  
Which smoothes everthing
After Inhailing

Plant a plant unwanted i.e.
O weed (called khar-patwar)
When You earn more than
Any other ‘Crop’

its a long story 

I am coming from the lands 
of cultivated fields of 
caste and creed 
sowing races 
between the ages ,
building 
a complex of superiority 
amidst 
hybrid and organic 
and looking cool 

“the matka “*
*the pitcher so NATURAL 
adopting the name 

for betterment 
or battring the society 
*the matka    = (मटका =pitcher )

means the gambling den 

पचं-तन्त्र से

ये कहानी तो आपने सुनी होगी की एक भोले भाले किसान को पांच ठगों ने उसकी गाय को गधा बताकर उसे ये विश्वास दिलवा दिया की ये गाय,
गाय नहीं है गधा है और उसे गधे के दाम खरीद लिया. ये पुराने पंचतंत्र की कहानी है.

अब नए पञ्च तंत्र की कहानी ये है 

सुना वो पांच ठग इस कोशिश में हैं की एक गधे

 को  गाय बनाकर “कुछ” भी बेचा जा सकता है 

JIO jaani